Home » Cover Story » भारत में स्कूल जाने वाले बच्चे क्यों नहीं सीख पाते ?

भारत में स्कूल जाने वाले बच्चे क्यों नहीं सीख पाते ?

विवेक विपुल,
Views
1689

Dr Rukmini Banerji_620

 

भारत के सेकेंडरी स्कूलों में पहले से कहीं ज्यादा बच्चों ने दाखिला लिया है, लेकिन स्कूल उन्हें यह बताने में नाकाम रहा है कि उन्हें क्या सीखना चाहिए था। साथ ही, शिक्षा के संबंध में सबसे कमजोर बच्चे बाकी बच्चों से भी पीछे रह रहे हैं, जैसा कि इंडियास्पेंड ने 20 सितंबर 2017 की रिपोर्ट में बताया है।

 

शिक्षा के लिए काम करने वाली संस्था प्रथम द्वारा लाए गए एनुअल सर्वे ऑफ एजुकेशन रिपोर्टस (एएसईआर) ने भी इस तथ्य की पुष्टि की है। प्रथम की मुख्य कार्यकारी अधिकारी रुक्मिणी बनर्जी कहती हैं, “नीति निर्माताओं ने बच्चों के लिए अवास्तविक शैक्षिक लक्ष्यों को निर्धारित किया है, और अधिक सार्थक परिणाम संकेतकों के लिए तर्क दिया है।” वह कहती हैं, “स्कूल के अनुभव पर ध्यान केंद्रित करना, मापन योग्य परिणामों से ज्यादा महत्वपूर्ण है। अगर मैं पीछे मुड़ कर देखती हूं  तो मुझे गणित याद नहीं है, जो मैंने सीखा था, लेकिन ऐसी कई चीजें दिखती हैं जिसने मेरे व्यक्तित्व को बनाने में मदद की है।”

 

इस साक्षात्कार में, बनर्जी ने शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए जनसांख्यिकीय लाभांश, शिक्षा, शिक्षक प्रशिक्षण, बच्चों की अपनी आकांक्षाएं, और केंद्र सरकार की भूमिका पर चर्चा की है। रोड्स स्कॉलर, बनर्जी ने प्रारंभ में एक अर्थशास्त्री के रूप में प्रशिक्षिण लिया, लेकिन बाद में शिकागो विश्वविद्यालय से उन्होंने शिक्षा में पीएचडी किया है। यहां उनसे हुई बातचीत के कुछ संपादित अंश:-

 

2016 तक, एएसईआर ने 16 साल की उम्र तक के बच्चों का सर्वेक्षण किया। एएसईआर 2017 किशोरों पर केंद्रित है। साल दर साल आपके सर्वेक्षणों ने दिखाया है कि किशोरों सहित उच्च ग्रेड में बच्चों के पास निचले ग्रेड में सिखाए गए कौशल की बद्तर समझ है, जैसा कि हमने 16 जनवरी, 2018 की रिपोर्ट में बताया है। इन  बच्चों को भारत के “जनसांख्यिकीय लाभांश” देने की उम्मीद है। क्या हम लड़ाई पहले से ही खो चुके हैं?

 

शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) 14 वर्ष तक की आयु के बच्चों के लिए शिक्षा अनिवार्य बनाता है, यानी कक्षा आठ तक शिक्षा अनिवार्य है। लेकिन हमारे सामान्य सर्वेक्षण में बच्चों की आयु 16 वर्ष तक थी, क्योंकि अब उन आयु वर्ग के बहुत सारे छात्र हैं, जो आठवीं कक्षा समाप्त कर रहे हैं। उन सर्वेक्षणों में दिखाया गया है कि बच्चों को अपेक्षित पढ़ने और लेखन कौशल सीखने के बिना उच्च ग्रेड में स्थानांतरित किया गया था।

 

हालांकि, इस साल हम किशोरों पर आरटीई के दायरे से बाहर और उम्र के ऊपर ध्यान केंद्रित किया है। लक्ष्य सीखने में समान विफलताओं को रेखांकित नहीं करना था, बल्कि आगे बढ़ना था ( यही वजह है कि हमने इसे “बियॉंड बेसिक्स” कहा है ) और यह पता करना है कि वास्तविक जीवन में कक्षा  के बाहर बच्चे क्या कर रहे हैं?

 

हमारा समान्य एएसईआर बहुत ही बुनियादी और काफी आसान है, कुछ अर्थों में ‘शैक्षणिक’ कह सकते हैं। गणित संख्यात्मक है, बस पाठ्यपुस्तकों में। इस वर्ष के एएसईआर ने न सिर्फ उन किशोरों के बारे में पता लगाने का प्रयास किया था, बल्कि यह भी समझने के लिए कि वे क्या सोच रहे हैं, वे क्या करना चाहते हैं, वे क्या करने में सक्षम महसूस करते हैं और कुछ चीजें करने की उनकी क्षमता को बड़े संदर्भ में रखा गया है, जिससे ये पता लगाया जाए कि वे इसे कैसे देखते हैं। कई परिणाम बहुत दिलचस्प थे।

 

एक परिणाम यह है कि कई बच्चों ने कक्षा आठ के बाद शिक्षा जारी रखी है ( जिसके बाद आरटीई लागू नहीं होता ) और नामांकन में कोई बड़ी कमी नहीं है। यह स्पष्ट है कि स्कूली शिक्षा के अधिक वर्षों के लिए दबाव अनिवार्य चरण से आगे भी जारी है। यह शायद दोनों आपूर्ति पक्ष (अधिक स्कूल हैं) से और मांग पक्ष से (लोगों की आकांक्षाएं अधिक है) आ रही है। शिक्षा में विश्वास या, मैं कहूं, स्कूली शिक्षा के वर्षों में विश्वास काफी गहरी है।

 

अधिक बच्चों का कक्षा आठ के बाद शिक्षा जारी रखना एक अवसर है, क्योंकि अगर युवा लोग अभी भी शैक्षिक संस्थानों में दाखिला ले रहे हैं, तो उन तक पहुंचना आसान है। यदि, उदाहरण के लिए, हमें लगता है कि कुछ कौशल को अभी भी सिखाया जाना चाहिए । ( उदाहरण के लिए, अधिकांश छात्रों के अंग्रेजी का स्तर पाठ्यपुस्तकों की तुलना में कम है) हम ऐसे बच्चों तक पहुंच सकते हैं, जो अभी भी कहीं नामांकित हैं।

 

अगर मैं पीछे मुड़ कर देखती हूं, तो मुझे गणित याद नहीं आ रहा है जो मैंने सीखा था। लेकिन मुझे याद है कि कई अन्य चीजें हैं, जिसने संभवत: मुझे बनाने में मदद की है। पढ़ना और गणित एक छोटी से चीज है। इस आठ साल के अनुभव को एक उपयोगी अनुभव, सामाजिक, भावनात्मक और अकादमिक रूप से परिवर्तित करने के लिए महत्वपूर्ण है। निश्चित रूप से, एक छात्र जिसकी आठ साल की स्कूली शिक्षा है, वह एक ऐसे छात्र से अलग है, जिसकी शिक्षा चार वर्ष की है। हम उस चीज को कई चीजों में ट्रांसफार्म करना चाहते हैं।

 

इसलिए मैं इस तरीके से जनसांख्यिकीय लाभांश को देखती हूं। छोटे बच्चे कैसे तैयार हैं? एएसईआर हमें एक कहानी बताता है, लेकिन इसके लिए बहुत कुछ हो सकता है। डेटा इसमें से कुछ चीजें अधिकृत नहीं करता है, जिसे हमारी शार्ट फिल्म में देखा जा सकता है। वे अपनी आशाओं, उनके सपनों, चुनौतियों का सामना करने के बारे में काफी स्पष्ट हैं। मुझे लगता है कि 10 साल पहले, जो यहां तक नहीं पहुंचते हैं ( ग्रेड आठवीं तक ) शायद इतने स्पष्ट नहीं हो सकते थे। हमें पता होना चाहिए कि ये बच्चे क्या कर सकते हैं, वे किस बारे में सोच सकते हैं और कुछ अवसर दिए जाने पर वे क्या कर सकते हैं। क्या हम एक समाज के रूप में, एक अर्थव्यवस्था के रूप में, उन अवसरों को बनाने में सक्षम हैं?

 

एएसईआर 2017 में एक और बात सामने आती है। बड़ी संख्या में बच्चे स्कूल में रहते हुए काम कर रहे हैं और आमतौर पर वे अपने परिवार के उद्यम या खेत में काम कर रहे हैं। इन युवा लोगों की क्षमता का उपयोग करने के लिए, क्या हम उन्हें कुछ नया सीखने के लिए उस तरह का अवसर प्रदान करने में सक्षम हैं?

 

क्या आपने विश्लेषण किया है कि कैसे घरेलू विशेषताएं सीखने के परिणामों को प्रभावित करते हैं?

 

हां, हमारी निदेशक, विलिमा वाधवा ने एएसईआर के आंकड़ों का इस्तेमाल किया है, ताकि पता चले कि सरकारी और निजी स्कूलों में घरेलू विशेषताओं के आधार पर छात्रों का प्रदर्शन कैसा रहता है। उन्होंने पाया है कि यदि आप घरेलू गतिविधियों को नियंत्रण करते हैं तो सरकारी और निजी स्कूलों में छात्रों के प्रदर्शन में कोई अंतर नहीं है।

 

हालांकि, हमें पता है कि मुख्य एएसईआर रिपोर्ट को यथासंभव रखना महत्वपूर्ण है, अन्यथा लोग सभी तरह के इरादों पर दबाव डालते हैं। उदाहरण के लिए, इकोनोमिक एंड पॉलिटिकल वीकली के एक लेख में कहा गया है कि एएसईआर का गुप्त उद्देश्य सरकारी स्कूलों को सीमित करना और निजी स्कूसों को  बढ़ाने का है।

 

एक अध्ययन से पता चला है कि गरीब परिवारों के लोग अनौपचारिक बाजारों में दुकानदार के रूप में काम करते हैं, जो अपने ग्रेड-स्तर की अपेक्षित प्रदर्शन से बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं, बुनियादी अंकगणितीय समस्याओं को हल करने में सक्षम हैं, क्योंकि उनकी नौकरी के लिए दैनिक आधार पर यह आवश्यक है। अन्य अनुसंधान ने यह भी दिखाया है बच्चे कक्षा सेटिंग की तुलना में प्राकृतिक सेटिंग में बेहतर प्रदर्शन करते हैं।

 

ऐसी स्थितियों में, सवाल यह है कि हम उन्हें सामान्य गणित कैसे सिखा सकते हैं। लेकिन इससे भी बेहतर है कि उस विषय में स्कूल के पाठ्यक्रम को कैसे लाया जाए। हम दिल्ली में एक वैश्विक प्रभाव मूल्यांकन केंद्र, अब्दुल लतीफ जमील पोवर्टी एक्शन लैब (जे-पाल) के साथ काम कर रहे हैं। हम यह पूछ रहे हैं कि यदि आप पूर्व-विद्यालय की उम्र में या स्कूल के पहले कुछ वर्षों में कुछ प्रकार के गणित के खेल का सामना कर रहे हैं, तो क्या बाद में आप गणित को बेहतर करने में सक्षम हैं?

 

इन खेलों में संख्याओं का उपयोग नहीं करते हैं। उदाहरण के लिए, आपके पास दो कार्ड हैं। एक कार्ड में दूसरे से अधिक डॉट्स है और आप बच्चों से यह पूछ रहे हैं कि कौन से अधिक हैं। इन्हें हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में विकसित किया गया था और शुरूआत में टैबलेट पर केवल प्रयोगशाला सेटिंग में परीक्षण किया गया था। जे-पाल ने उन विचारों को उस सेटिंग से लिया और उन्हें दक्षिण शाहदरा और त्रिलोकपुरी में प्रथम बालवाड़ियों (बच्चों के केंद्रों) में (दोनों दिल्ली में) विकासशील देशों में परिणामों का परीक्षण करने के लिए डाल दिया।

 

दिलचस्प बात यह है कि कैम्ब्रिज, मैसाचुसेट्स, अमेरिका बनाम त्रिलोकपुरी बच्चों का प्रदर्शन पूर्व-स्कूल स्तर पर समान रहा है। लेकिन जब आप स्कूल में कुछ सालों के बाद उनका पालन करते हैं, तो आप पाते हैं कि हमारे बच्चे बहुत बद्तर प्रदर्शन करते हैं। डफलो की व्याख्या यह है कि भारत में स्कूल गणित, पूर्व-स्कूल के वक्त में सहज ज्ञान युक्त है जो सहज गणित कौशल का निर्माण नहीं करता है। यह फिर रेखांकित करता है कि समस्या हमारे बच्चों के साथ नहीं है, बल्कि यह है कि स्कूल में प्रवेश करने के बाद हम उनसे क्या उम्मीद करते हैं।

 

26 फरवरी, 2018 के बयान के अनुसार, सरकार दो से तीन वर्षों में राष्ट्रीय बोर्ड के पाठ्यक्रम को कम करने की योजना बना रही है। क्या आपको लगता है कि इससे मदद मिलेगी?

 

मुझे पहले समझने की आवश्यकता है कि ‘पाठ्यक्रम को कम करने’ का मतलब क्या है।  मेरे लिए, यह मात्रा वस्तु नहीं है। एएसईआर या एमआईटी अर्थशास्त्री अभिजीत बॅनर्जी या एस्थर ड्यूफलो के काम से पता चलता है कि स्कूल में बच्चों से जो कुछ भी हम उम्मीद कर रहे हैं, वह कक्षा के शीर्ष को लक्षित करने की कोशिश करता है।

 

अगर मैं एएसईआर डेटा को देखती हूं, पढ़ने का परीक्षण ग्रेड II टेस्ट है। यदि आप पूछते हैं कि कितने छात्र ग्रेड III में ऐसा कर सकते हैं और 2014 के राज्यों के आंकड़ों को देख सकते हैं, तो आप एक बड़ी विविधता देखते हैं। तो, हिमाचल सबसे अच्छा है, जहां 50 फीसदी छात्र इस स्तर पर या उच्चतर हैं (हमें नहीं पता है कि इसके कारण क्या अधिक है क्योंकि हम इसे नहीं मापते हैं) और अन्य 25 फीसदी पैराग्राफों को काफी बार पढ़ सकते हैं। इसलिए, ग्रेड स्तर पर शिक्षण हिमाचल में समझ में आता है। लेकिन सबसे नीचे उत्तर प्रदेश (यूपी) है, जहां लगभग 7 फीसदी बच्चे वास्तव में ग्रेड I के पुस्तक पढ़ सकते हैं। अब, उत्तर प्रदेश के मामले में ग्रेड स्तर पर शिक्षण का कोई मतलब नहीं है। कम से कम 93 फीसदी छात्र उसके करीब भी नहीं हैं, जो उन्हें सिखाया जा रहा है।

 

यह देखते हुए, हमें यह सोचने की जरूरत है कि स्कूल में पहले कुछ वर्षों की भूमिका क्या है। यदि यह एक ठोस नींव बनाने के लिए है, तो आपको यह परिभाषित करना होगा कि उस नींव में क्या शामिल है और उस स्तर पर उन्हें प्राप्त करने के लिए जो कुछ भी होता है, उसे करना है। आपको अलग-अलग तरीकों, विभिन्न प्रकार के समूह का इस्तेमाल करना पड़ सकता है।

 

प्रथम शैक्षणिक प्रयोग कर रहा है, जहां हमने प्रत्येक कक्षा तक सफलतापूर्वक प्रशिक्षित किया है। वे केवल उस स्तर पर नहीं बल्कि कहानियों को भी लिख सकते हैं। यह मात्रा या कमी या विस्तार का प्रश्न नहीं है। यदि मेरा लक्ष्य है कि हर बच्चे को पढ़ना चाहिए, तो मैं उस लक्ष्य की दिशा में काम करूंगी। अगर मेरा लक्ष्य यह है कि कोई बच्चा उसे कहने में सक्षम हो कि वह क्या सोचता है, तो हम इसके लिए अवसर पैदा करते हैं। इसलिए मुझे नहीं पता कि यह घोषणा क्या थी और हमें इसमें गहराई से जाना चाहिए। कभी-कभी सुर्खियों में आप का संक्षिप्त रूप क्या होता है मैं इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहती कि बिना किसी योजना के क्या किया जा रहा है।

 

इसके अलावा, मैंने इस बारे में अपने विचारों के लिए एक घोषणा की है। तो यह कहने का एक अवसर है कि हम काफी दृढ़ता से महसूस करते हैं कि चरण-वार, स्पष्ट लक्ष्य होना चाहिए। अगर पांचवी कक्षा के अंत तक आप अधिकतर बातों को पढ़ सकते हैं, उन पर सवाल पूछ सकते हैं, अपने विचारों को तैयार कर सकते हैं और कुछ बुनियादी संगणना कर सकते हैं, मुझे लगता है कि नींव को बनाने में काफी मजबूत है।

 

यह भी महत्वपूर्ण है ( एएसईआर करने के सभी वर्षों से [हम क्या समझते हैं] और जो हम पहले में करते हैं ) कि माता-पिता समझें कि उनके बच्चों का लक्ष्य क्या हैं। तभी माता पिता का समर्थन मिलेगा और एक बड़े पैमाने पर भाग ले पाएंगे। अगर हम समझ नहीं पाए कि स्कूल में क्या चल रहा है तो हमें सार्वभौमिक स्कूल नहीं मिलेगा। और हां, मुझे लगता है कि हम एक ऐसे चरण पर हैं जहां सभी को समझने की आवश्यकता है कि सीखने का अर्थ क्या है। माता-पिता तो बुलेट अंकों में सीख को नहीं बताया जा सकता है। आप स्कूलों के लिए ऐसा कर सकते हैं, लेकिन माता-पिता के लिए आपको इसे व्यापक रूप से समझाना होगा।

 

अक्सर हम पाते हैं कि एएसईआर उपकरण बेहद उपयोगी है।जब माता-पिता को पहली बार बताया गया तो कहा था: “अच्छा मेरे बच्चे को यह आना चाहिए। मुझे नहीं पता था. मुझे लगा कि किताब में जो-जो है वो सब उसे आनी चाहिए।” तब आप उन्हें बताते हैं: “किताब में यही है।” माता-पिता के साथ समझाते हुए और साथ ले जाने की यह प्रक्रिया महत्वपूर्ण है।

 

स्कूल, सरकार, माता-पिता सभी ग्रेड के मामले में सोचते हैं। ग्रेड क्या है? यह हमारे स्कूलों को आयु समूहों में व्यवस्थित करने का एक तरीका है। लेकिन यदि एक ही कक्षा में बच्चों को आयु वर्गों में वितरित किया जाता है, तो आपको उन्हें सीखने के स्तर में तेजी लाने के लिए कुछ भी करना होगा।

 

जिस पद्धति का हम प्रथम में प्रयोग करते हैं ( यहां तक ​​कि उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में, जहां आधारभूत बहुत कम है ) वह यह कि 40 से 50 दिनों के लिए ( उन बच्चों को जिनके कक्षा में पीछे रहने की उम्मीद है ) कुछ घंटे अलग से सीखाना। यह किया जा सकता है। ग्रेड आठवीं को बीजगणित अध्यापन करना मुश्किल हो सकता है, लेकिन हर किसी को बुनियादी स्तर तक पहुंचने के लिए सिखाना मुश्किल नहीं है। सिर्फ इसलिए कि आपको पीछे छोड़ दिया गया है, इसका मतलब यह नहीं है कि आप पकड़ नहीं सकते। लेकिन जिस नियमित रूप से किया जा रहा है उस तरह से पकड़ना मुश्किल है। आपको थोड़ा अलग करना है।

 

‘सही स्तर पर शिक्षण’ में, मान लीजिए कि तीसरे, चौथे, पांचवें ग्रेड के बच्चे लेते हैं। और ग्रेड द्वारा उन्हें व्यवस्थित करने की बजाय, हम उन्हें सीखने के स्तरों द्वारा व्यवस्थित करते हैं। जो लोग शब्द स्तर पर हैं, वे एक साथ होते हैं उन्हें एक साथ रखा जाता है। परिणाम   दिखाते हैं कि बहुत ही कम समय में पर्याप्त और महत्वपूर्ण बदलाव होता है।

 

लेकिन इसका मतलब है कि आपको कुछ ऐसा करना चाहिए: एक, यह स्वीकार करें कि एक समस्या है, और दो, स्कूलों के अपने सामान्य आयु वर्ग के संगठन से दूर जाने के लिए तैयार रहें, कम से कम स्कूल के दिन के लिए, सीखने के स्तर से बच्चों को समूहीकृत करना। जो बच्चे बहुत ही स्वाभाविक रूप से लेते हैं, क्योंकि वे इस तरह खेलते हैं।

 

मेरे लिए सबसे अच्छा विचार सहज-बुद्धि विचार है। जब आपका बड़ा भाई आपको सिखाता है, तो वह आपके ग्रेड स्तर के पाठ्यक्रम की परवाह नहीं करता है। वह वहीं से शुरुआत करता है, जहां आप फंसे हुए हैं।

 

भारत ने शिक्षकों और उनके प्रशिक्षण पर अरबों खर्च किए हैं, फिर भी सीखने के परिणाम बिगड़ रहे हैं, जैसा कि  हमने 19 मई, 2015 को सूचित किया था। क्या भारत सही तरह के शिक्षक प्रशिक्षण में निवेश कर रहा है?

 

हमने कई राज्यों में शिक्षकों के साथ काम किया है। मैं यह कहना चाहती हूं हमारे शिक्षक हमारी तरह हैं। क्या हम एक उच्च कुशल देश हैं? हम नहीं हैं। क्या हम भयानक हैं? नहीं।

 

जो मैंने ‘सही स्तर पर शिक्षण’ के रूप में वर्णित किया है, कि छात्र जिस भी स्तर पर हैं, वहीं से शुरु करना है, और उसे अगले स्तर पर प्राप्त करने के लिए गतिविधियों के संयोजन का उपयोग करना है। मुझे लगता है कि बोर्ड में शिक्षकों ( चाहे पैरा शिक्षकों [अनुबंध पर काम पर रखने वाले या स्थायी शिक्षक ) ऐसा करने में सक्षम होते हैं, यदि वे ऐसा करने के लिए मुक्त हो जाते हैं। ग्रेड स्तर के पाठ्यक्रम के दबाव से मुक्त। यदि शिक्षकों को वर्ष के अंत तक केवल (पाठ्य) पूरा करने की उम्मीद है, तो वो यही करेंगे। लेकिन जहां भी हम सरकार के साथ काम कर रहे हैं, जैसे कि कर्नाटक या कि हिमाचल और लक्ष्य है कि तीसरे, चौथे, पांचवीं के बच्चों को बुनियादी स्तर तक लाना है और स्कूल इसके लिए दो घंटे एक दिन मेंआवंटित करता है और हमने पाया कि शिक्षक इसे ठीक से करते हैं।

 

जहां तक प्रशिक्षण का सवाल है, हमें कितना भी प्रशिक्षित किया जाए, हम सभी नौकरी पर बहुत कुछ सीखते हैं। लेकिन हम अकेले नहीं सीखते हैं। दुर्भाग्य से, शिक्षकों को इस तरह के सीखने का सहारा नहीं है। आपको उन लोगों के एक कैडर बनाने की जरूरत है, जो शिक्षकों की मदद करने जा रहे हैं। और हमारे पास ऐसे लोग कई राज्यों में हैं, जिन्हें ‘क्लस्टर समन्वयक’ कहते हैं ।(प्रत्येक क्लस्टर में 10-20 स्कूल एक ब्लॉक में हैं) या ब्लॉक संसाधन लोगों या सामान्य तौर पर, जो भी शिक्षक के स्तर से ऊपर है।

 

जहां भी प्रथम राज्य सरकार या जिला प्रशासन के साथ काम करता है, हम कहते हैं कि पहले उन लोगों के साथ काम करना चाहेंगे, क्योंकि ये लोग हैं जो वास्तव में शिक्षकों की मदद कर सकते हैं। मुझे लगता है कि देश को ऐसा करने वाली शीर्ष चीजें इन क्लस्टर समन्वयकों को शैक्षणिक लोगों में बदल देता है। यह करना मुश्किल नहीं है, क्योंकि शिक्षा प्रणाली में एक बड़ी संपत्ति है। जैसे ही आप बच्चों के साथ कुछ प्रगति करते हैं, आप उनसे तत्काल अनुग्रह प्राप्त करते हैं। लेकिन आप केवल इतना ही प्राप्त कर सकते हैं कि यदि लक्ष्य सफल होते हैं, न कि अगर आपको उन्हें इतना मुश्किल करना है कि बच्चों को समझना मुश्किल हो।

 

एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि ऐसे लक्ष्यों को प्राप्त करना है, जो प्राप्त करने योग्य हैं और स्वीकार करते हैं कि, किसी भी कारण से, बहुत सारे बच्चे ग्रेड स्तर से नीचे हैं। और अगर आपके पास मौलिक कौशल नहीं हैं, तो आप आगे बढ़ सकते हैं। तो, पहले, एक स्कूल वर्ष में बच्चों को इस स्तर तक पहुंचने में मदद करने के लिए समय व्यतीत करें। फिर आप शिक्षक को प्रशिक्षित कर सकते हैं।

 

आप शिक्षकों के लिए समर्थन स्टाफ के कैर्डर्स के निर्माण के बारे में बात करते हैं। लेकिन शिक्षक की कमी के बारे में क्या किया जा सकता है, जैसा कि हमने यहाँ और यहां बताया है?

 

सिस्टम में वे कैडर पहले से मौजूद हैं। और, हां, हमारे पास शिक्षकों की कमी है। जाहिर है आपको शिक्षकों की जरूरत है, लेकिन ऐसा नहीं है कि अगर आपके पास पर्याप्त शिक्षक नहीं हैं तो कुछ नहीं किया जा सकता है। यह इसलिए भी है कि हम एक सार्वभौमिकता के चरम पर गए हैं, जो मांग करता है कि हर छोटे पॉकेट में एक स्कूल हो। मुझे याद है कि राजस्थान के एक बड़े गांव में पांच सरकारी और निजी स्कूल हैं। प्रत्येक सरकारी स्कूल में 70-80 बच्चे और दो-तीन शिक्षक होते हैं, और हर कोई कमी के बारे में शिकायत करता है।

 

मुझे लगता है कि शिक्षकों की उपलब्धता को अधिकतम करने के लिए स्कूलों में समझदारी भरा समन्वय किया जा सकता है जहां संभव हो। तो, हाँ, शिक्षकों को काम पर रखा जाना चाहिए, लेकिन कई अन्य तरीके हैं।

 

अनुबंध शिक्षकों का नाम खराब है और मैं उनकी कामकाजी परिस्थितियों पर टिप्पणी नहीं कर रही हूं; उन्हें पर्याप्त रूप से भुगतान करना चाहिए, लेकिन इन शिक्षकों पर हमने जो अध्ययन किया है, उनके प्रदर्शन नियमित शिक्षकों से से बदतर नहीं है। कभी-कभी शायद ( क्योंकि वे छोटे हैं ) वे नियमित रूप से बेहतर प्रदर्शन करते हैं। इसलिए, हमें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए आज उपलब्ध संसाधनों का पुनर्गठन करने की आवश्यकता है।

 

बिहार में, जब हम ‘सही स्तर पर शिक्षण’ करने के लिए एक जिले के साथ काम कर रहे थे, वे क्या कर रहे थे कि क्लस्टर के भीतर (एक ब्लॉक में 10-20 स्कूल), यदि कोई कमी थी, तो वे एक शिक्षक को एक स्कूल से दूसरे स्थान पर पर ले जाते हैं।

 

हां, उच्चतम स्तर तक पहुंचने के लिए और बच्चों को पढ़ाने के लिए, जो सभी पाठ्यक्रम में हैं, हमें और अधिक विशिष्ट प्रशिक्षण की आवश्यकता हो सकती है। लेकिन जिस स्तर पर एएसईआर बोल रहा है, यह किया जा सकता है, यहां तक ​​कि अधिक शिक्षक प्रशिक्षण के लिए इंतजार किए बिना।

 

हमारे पास सरकारी स्कूलों का एक पदानुक्रम है: नवोदय और केन्द्रीय विद्यालय। क्या यह भी समस्या है? क्या हमें एक सामान्य स्कूल व्यवस्था की आवश्यकता है?

 

आम विद्यालय प्रणाली एक ऐसी कल्पना है जिसके बारे में बहुत बात की गई है। यदि आप कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में देखते हैं, तो वहां एक आम-स्कूल प्रणाली प्रभावी ढंग से है। खासकर पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों में, जहां पर्याप्त निजी स्कूल नहीं हैं

 

यहां दो तरह की समान्य बातें हैं। एक यह है कि सभी बच्चे एक ही स्कूल में जाते हैं और फिर, गांव में, सभी बच्चे ट्यूटर्स के एक ही सेट में जाते हैं। इसलिए, यह दोनों औपचारिक रूप से और अनौपचारिक रूप से सामान्य है।

 

जब भी सब कुछ विभेदित किया जाता है, आप एक सामान्य-विद्यालय प्रणाली को लागू नहीं कर सकते। जहां स्कूलों में बच्चों का समाज का आयोजन कैसे किया जाता है इसका एक फ़ंक्शन है। आपको एक सामान्य स्वास्थ्य प्रणाली, एक आम सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था की आवश्यकता है। आम-विद्यालय प्रणाली एक आकर्षक विचार है, लेकिन इसे लागू करना मुश्किल है समाज से बाधा आ रही है।

 

इसके अलावा, यदि सरकारी स्कूल अच्छा है तो संभावना है कि हर कोई अपने बच्चों को उस स्कूल में भेजना चाहेगा। लोगों के खुद को अलग करने के हमेशा आकांक्षात्मक कारण होते हैं। जब तक विकल्प उपलब्ध हैं, तब तक लोग उन्हें चुनेंगे। लेकिन जहां भी सरकारी विद्यालयों ने अच्छा प्रदर्शन किया हो, निजी स्कूलों का विस्तार धीमा हो गया है।

इसके अलावा, ज्यादातर भारत के लिए स्कूल शिक्षा बाजार एक ग्रे बाजार है, क्योंकि सरकारी और निजी के बीच का अंतर दोषपूर्ण है। यदि आप इसका विश्लेषण करते हैं, तो आप देखेंगे कि भारतीय परिवारों का दोनों जगहों में पैर है -औपचारिक और अनौपचारिक और यह विभिन्न सामर्थ्य स्तरों पर है।

 

(विवेक विश्लेषक हैं और इंडियास्पेंड के साथ जुड़े हैं।)

 

यह साक्षात्कार मूलत: अंग्रेजी में 06 अप्रैल, 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*