Home » Cover Story » जिस राज्य में उद्योग ज्यादा, वहां देश के सबसे प्रदूषित नदियां

जिस राज्य में उद्योग ज्यादा, वहां देश के सबसे प्रदूषित नदियां

विपुल विवेक,
Views
1494

Mahim Creek

 

नई दिल्ली: भारत के सबसे अधिक औद्योगीकृत राज्यों में से एक महाराष्ट्र का प्रदर्शन अपनी नदियों को स्वच्छ रखने में बद्तर रहा है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, पांच वर्षों से 2012 तक, देश के प्रदूषित नदियों में महाराष्ट्री की हिस्सेदारी 16 फीसदी रही है।

 

देश के केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, भारत की 302 प्रदूषित साइटों में से 49 के साथ, राज्य ने नदी की सबसे ज्यादा संख्या दर्ज की है, जहां 2008 और 2012 के बीच औद्योगिक प्रवाह को गिराया गया है, जैसा कि पर्यावरण राज्य मंत्री महेश शर्मा ने 6 अप्रैल, 2018 को लोकसभा में बताया है।

 

प्रवाह  जल निकायों की ऑक्सीजन सामग्री को कम करते हैं, क्योंकि यह अपघटन प्रक्रिया में रसायनों द्वारा उपयोग किया जाता है। ऑक्सीजन के स्तर में यह गिरावट मछली और अन्य प्राणियों को मार देती है।

 

अगले चार सबसे खराब राज्यों की तुलना में महाराष्ट्र में प्रदूषित हिस्सों की संख्या दो से तीन गुना ज्यादा थी। अन्य चार बद्तर प्रदर्शन करने वाले राज्य हैं – असम (28), मध्य प्रदेश (21), गुजरात (20) और पश्चिम बंगाल (17)। कुल मिलाकर, 2008 और 2012 की बीच, पांच प्रदूषणकारी राज्य की भारत की प्रदूषित नदियों में 45 फीसदी की हिस्सेदारी रही है।

 

विस्फोटक कचरा महाराष्ट्र की नदियों को चोक कर रहा है और मछली पकड़ने के समुदायों ने शिकायत की है कि क्षमता की तुलना में उनकी दैनिक पकड़ केवल 10 फीसदी रही है, जैसा कि हिंदुस्तान टाइम्स ने 13 अगस्त, 2016 की रिपोर्ट में बताया है।

 

राज्य में जल प्रदूषण के लिए निगरानी और अभियोजन पक्ष का मतलब है कि नदियों में अनुपचारित प्रवाह पर आम प्रदूषण उपचार संयंत्र नियमित रूप से पर्यावरणीय दिशानिर्देशों की उपेक्षा करते हैं, जैसा कि इंडियास्पेन्ड ने 10 मई, 2017 की रिपोर्ट में बताया है।

 

राज्य अनुसार प्रदूषित नदियां, 2008-2012

Source: Lok Sabha

 

(विवेक विश्लेषक हैं और इंडियास्पेंड के साथ जुड़े हैं।)

 

यह लेख मूलत: अंग्रेजी में 28 अप्रैल, 2018 को indiaspend.com पर प्रकाशित हुआ है।

 

हम फीडबैक का स्वागत करते हैं। हमसे respond@indiaspend.org पर संपर्क किया जा सकता है। हम भाषा और व्याकरण के लिए प्रतिक्रियाओं को संपादित करने का अधिकार रखते हैं।

 
__________________________________________________________________

 

“क्या आपको यह लेख पसंद आया ?” Indiaspend.com एक गैर लाभकारी संस्था है, और हम अपने इस जनहित पत्रकारिता प्रयासों की सफलता के लिए आप जैसे पाठकों पर निर्भर करते हैं। कृपया अपना अनुदान दें :

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*