Home » नवीनतम रिपोर्ट

प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल में भारत कैसे करे सुधार?

प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल में भारत कैसे करे सुधार?

  मुंबई: सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज प्राप्त करने के लिए भारत को गुणवत्ता और पहुंच में सुधार करना है, मध्यम स्तर के स्वास्थ्य सेवाकर्मियों को नियुक्त करना है और प्राथमिक देखभाल…

“भारत में शासन के लिए जो कानून है, वह संकट में ”

“भारत में शासन के लिए जो कानून है, वह संकट में ”

  मुंबई: हरीश नरसप्पा कहते हैं, भारत में शासन के लिए जो कानून है, वह संकट का सामना कर रहा है।   कागज पर हमारे संस्थानों की भूमिका और वास्तविकता…

सुधारात्मक शिक्षा से भारत में सीखने का संकट हो सकता है खत्म

सुधारात्मक शिक्षा से भारत में सीखने का संकट हो सकता है खत्म

    उत्तर प्रदेश के ललितपुर में एक  सुधारात्मक शिक्षा कक्षा में अपने दोस्तों के साथ बैठे भागचंद (तस्वीर के उत्तर छोर पर)  रंगीन कागज की पट्टियों पर लिके वाक्यों…

न्याय के लिए भारत के पीड़ित बच्चों को करना होगा 2022 तक का इंतजार!

न्याय के लिए भारत के पीड़ित बच्चों को करना होगा 2022 तक का इंतजार!

  मुंबई:  बच्चों की रक्षा और कानूनी प्रक्रिया में जल्द सुनवाई के लिए एक कानून लैंगिक अपराधों (पोक्सो) अधिनियम– 2012 के तहत 2016 से चार वर्षों में पंजीकृत मामले, निपटान…

कल्पना की कहानी में भारतीय महिलाओं का दर्द

कल्पना की कहानी में भारतीय महिलाओं का दर्द

  मुंबई: 33 वर्षों तक, कल्पना मिश्रा (बदला हुआ नाम) खुद से पूछती रही कि आखिर उसका कसूर क्या है? जिस पति को वो बहुत प्यार करती थी, वही उसे…

मोबाइल फोन तक पहुंच में भारी लिंग अंतर देश के लिए बाधा

मोबाइल फोन तक पहुंच में भारी लिंग अंतर देश के लिए बाधा

  मुंबई: हार्वर्ड विश्वविद्यालय में जॉन एफ कैनेडी स्कूल ऑफ गवर्नमेंट के एक नए अध्ययन के मुताबिक, भारत में मोबाइल फोन स्वामित्व में 33 प्रतिशत-प्रतिशत का लिंग अंतर है और…

‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’की लागत पर हो सकते थे दूसरे बड़े काम

‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’की लागत पर हो सकते थे दूसरे बड़े काम

  मुंबई: स्टैचू ऑफ यूनिटी  प्रतिमा करीब 2,989 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से बनी है। यह राशि इसके बजाय दो नए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) परिसरों, पांच भारतीय प्रबंधन…

Page 1 of 151123Next ›Last »