Home » परिवर्तन – 2015-2016

इंडियास्पेंड/फैक्टचेकर – 2015 के सबसे प्रमुख विश्लेषण

इंडियास्पेंड/फैक्टचेकर – 2015 के सबसे प्रमुख विश्लेषण

  इंडियास्पेंड में हम किसी प्रकार के विशेषण को जगह नहीं देते हैं न तो किसी विचार और न ही किसी भावना की अभिव्यक्ति करते हैं। यहां हमारा ध्यान होता…

भारतीय मिलिट्री के लिए कैसा रहा 2015?

भारतीय मिलिट्री के लिए कैसा रहा 2015?

  वर्ष 2015 में भारत के रक्षा बजट में करीब 10 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। यदि आंकड़ों पर नज़र डालें तो यह 2.2 लाख करोड़ रुपए (33…

चार चीज़ें जो 2016 में बदल सकती हैं भारत को

चार चीज़ें जो 2016 में बदल सकती हैं भारत को

  इस नए साल में राष्ट्रीय पहचान योजना से संबंधित, इंटरनेट पर अधिक लोगों के साक्षर होने की और अधिक लोगों तक बिजली, विशेष रूप से वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों से…

63 वर्षों में पहली बार लोकसभा रहा अधिक उत्पादक

63 वर्षों में पहली बार लोकसभा रहा अधिक उत्पादक

  वर्ष 2015 में, राज्य सभा की तुलना में लोकसभा का प्रदर्शन बेहतर रहा है। इसका कारण लोक सभा में सत्तारुढ़ पार्टी, भारतीय जनता पार्टी ( भाजपा ) का बहुमत…

भारत को चिंतित करने वाली 5 प्रमुख समस्याएं

भारत को चिंतित करने वाली  5 प्रमुख समस्याएं

  1.कृषि – 600 मिलियन भारतीयों की कृषि पर निर्भरता एवं 0.2 फीसदी विकास दर के साथ कृषि का संकट बरकरार है।   एक सरकारी अनुमान के अनुसार, वर्ष 2015…

2015 : कुछ क्षेत्र में आए अच्छे दिन

2015 : कुछ क्षेत्र में आए अच्छे दिन

टेमसुटला इंसॉंग स्वच्छ भारत देखना चाहती हैं, एवं, दर्शिका शाह के साथ वाराणसी  के कुछ गंदे घाटों की सफाई भी की है।   संघर्ष और विवाद से भरे इस साल…

असहनशीलता की बनावटी बहस?

असहनशीलता की बनावटी बहस?

  इस वर्ष असहनशीलता पर बहस ऐसे क्या कारण थे जो पूरे भारत में चर्चा का मुद्दा बना रहा  है?   * क्या मुद्दा सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओं –…